कहानी

  • नव्वा मंडरी

    यह आदमी हमसे उम्र में कोई दस बरस बड़ा था। शायद यही कारण है कि वह हमारा लीडर था । हमसे पहले भी यह हमसे बड़ों का लीडर रह

    पूरा पढ़े
  •   जिस किसी से यह संबंधित हो- 

    दर्द की तेज लहर आती है और सैकड़ों टुकड़े कर देती है उसके वजूद के, जैसे कोई डॉक्टकर पूरे होशोहवास में बिना एनस्थेतसि

    पूरा पढ़े
  • गृह-रुदन

    बाहर तन को सकून देने वाली दिसंबर की गुनगुनी धूप पसरी हुई थी, पर अन्दर तपता हुआ रेगिस्तान था। उसकी अंगार-सी दहकती बलु

    पूरा पढ़े
  • सिस्टर लिसा की रान पर रुकी हुई रात

    ऊंची तान में कैरल गाती युवा जमात का कोरस दम-ब-दम करीब आ रहा था। हवाओं में तिरते यीशु नासरी की सिताइश के गीतों में सर-ब

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें