मूल्यांकन

  • “मानुष-गंध “ पर एक पाठक के नोट्स 

    यथार्थ की कटुता एवं कड़वाहट,व्यवस्था की असंवेदनशीलता और नाकारापन, यथास्थितिवाद के अलावा  मानवीय मूल्यों के ह्यस क

    पूरा पढ़े
  • एक संजीदा कथा दृष्टि

    बीते वर्ष किताबघर प्रकाशन द्वारा प्रकाशित ‘हिन्दुस्तान की डायरी’ दीर्घ नारायण का तीसरा कहानी संग्रह है। इसकी चै

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें