अनिल गोयल

एक थी लड़की उर्फ वे कुछ पल

मैं, उन दो-ढाई महीने--- लू से झुलसती तपती प्यासी रेत पर घिसटता- सिसकता, जहां मेरे चारों ओर रेंगते मुझ से ही हजारों मनुष्य मेरी ही तरह घिसटते-सिसकते कुछ तलाश रहे थे--- घिसटते-सिसकते लोगों का वह एक पूरा काफिला--- जहां हम में से कोई भी झुकने को तैयार नहीं था एक तानाशाह के सामने! झुकने और कोर्निश बजाने वाले तमाम लोग रेगिस्तान की इस तपिश से बचने के लिए छतरी और जूतों की भेंट प....

Subscribe Now

पूछताछ करें