भावना शेखर

दाग

दो हजार की क्षमता वाला लंदन का फेडरल हॉल नौजवानों की भीड़ से पटा पड़ा था। जिसमें अधिकांश भारतीय मूल के छात्र हैं। सब बेचैन थे लिपिका की एक झलक पाने को। 
लिपिका के लिए भी आज जीवन का ऐतिहासिक दिन था। लगभग पंद्रह साल के शानदार कॅरियर के बाद उसे लंदन टाइम्स की ओर से बेस्ट मीडिया पर्सन का अवार्ड मिलने जा रहा है। उसने ‘वेक अप इंडिया’ चैनल के लिए यूक्रेन जाकर ग्राउंड रिप....

Subscribe Now

पूछताछ करें