चन्द्रकला त्रिपाठी

रोना यहाँ 

सेंट्रली एयरकंडीशंड ब्यूटी पार्लर के कोने-कोने तक रुलाई पहुंच रही थी। कई उम्र की औरतें अपने कायिक रूपांतरण की झिल्लियों में फंसी बंधी अपने कानों की संवेदनशीलता से हलकान हो उठीं।
शहर की मेयर श्रीमती अपूरी ने बेपरवाही से मुंह सिकोड़ लिया और हाथों की मालिश कर रही जया को चिकोट कर पूछा-‘किसकी शामत आ गई है?’
जया को बाहर आना पड़ा। फुसफुसाना पड़ा।
‘चु....

Subscribe Now

पूछताछ करें