हैदर अली

असग़र वजाहत के वे कार्य जिन्हे बहुत कम लोग जानते हैं 

असग़र वजाहत सर की बात उनसे हुई पहली मुलाक़ात से आरंभ करता हूँ। यानी  जब मैंने उन्हें पहली बार जामिया में देखा था। ये 1999 या 2000 की बात होगी। मेरा जामिया में पहला या दूसरा साल था। एक दिन की बात है अपने कुछ सीनियर्स के साथ लाॅन में बैठा था। वहाँ से तीन लोगों गुज़र रहे थे । हम सब उठ गए सलाम करने के लिए। वो तीनों लोग आगे बढ़ने लगे उससे पहले उनमें से एक  ने मेरी ओर देखते हुए कहा कि तुम नय....

Subscribe Now

पूछताछ करें